40% कैंसर रोकथाम योग्य; लाइफस्टाइल में ये 2 बदलाव लाना जरूरी: रिसर्च

0
5


अनुसंधान से पता चलता है कि यूनाइटेड किंगडम में कैंसर रोगियों की जीवित रहने की दर में काफी वृद्धि हुई है। वास्तव में, पिछले 4 दशकों में यह दोगुना हो गया है। शोध से पता चलता है कि आधे से अधिक कैंसर रोगी 10 वर्षों से अधिक समय तक जीवित रहे हैं।

यूके के स्ट्रैटेजिक एविडेंस एंड अर्ली डायग्नोसिस प्रोग्राम फॉर कैंसर रिसर्च के प्रमुख डॉ जोडी मोफैट के अनुसार, अगर लोग लंबे समय तक जीवित रहते हैं, तो कैंसर होने का खतरा भी अधिक होगा, लेकिन कई चीजें हैं जो कैंसर को विकसित होने से रोकने के लिए की जा सकती हैं।

डॉ जोडी का कहना है कि 40 प्रतिशत से अधिक कैंसर को रोका जा सकता है, और ऐसे दो तरीके हैं जिनसे इसके जोखिम को कम किया जा सकता है। उनका कहना है कि लगभग 40 प्रतिशत कैंसर हमारी जीवनशैली के कारण होते हैं और अगर कोई अपनी जीवन शैली में बदलाव करे तो कैंसर को रोका जा सकता है।

मोफत के मुताबिक दूसरा अहम कारण वजन है। अगर हमारे शरीर का वजन नियंत्रित रखा जाए तो कैंसर भी नियंत्रण में रह सकता है। अब अगर महामारी के कारण घर में रहना मजबूरी हो गई है तो हम खान-पान पर नियंत्रण या बदलाव कर वजन को संतुलित रख सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा फल और हरी सब्जियां खाएं। इसके अलावा, हल्की चीजें खाएं जिनमें कैलोरी कम और फाइबर अधिक हो।

व्यायाम के लाभों को किसी भी हालत में नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है। शारीरिक गतिविधियों को संतुलित करके स्तन और पेट के कैंसर को नियंत्रित किया जा सकता है। वयस्कों को सप्ताह में 150 मिनट हल्का व्यायाम या 75 मिनट जोरदार व्यायाम करना चाहिए।

इसके अतिरिक्त, एनएचएस के अनुसार, शराब और धूप का सेवन भी खराब है। धूप में कम रहने और शराब का सेवन कम करने से भी कैंसर से बचा जा सकता है। सनस्क्रीन लगाकर खुद को इससे बचाकर स्किन कैंसर के खतरे से बचा जा सकता है। इसी तरह शराब से भी कैंसर का खतरा बढ़ जाता है और शराब के सेवन पर नियंत्रण रखना चाहिए।

सभी पढ़ें ताज़ा खबर, आज की ताजा खबर तथा कोरोनावाइरस खबरें यहां।

.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें